अकेलापन

By Seekers     

क्या मैं सही हूँ या हूँ ग़लत,
ये तो बतायेगा वक़्त ही I
        
कोई भी क़दम उठाने से लगता है अब डर,
        
आख़िर खा चुका हूँ कई ठोकर I
कल्पना में जीये या यथार्थ में जीये,
कैसे करूँ मैं निर्णय मैं इसका I
      
यथार्थ को देखू़ं तो नहीं कर सकता कुछ भी,
      
कल्पना में जीऊँ तो नही है पक्का भरोसा I
ऐसी परिस्थिति में करूँ मैं क्या आख़िर,
रूक कर रह गया मैं आख़िर I
       
ना मैं कमज़ोर हूँ  डरने वाला,
       
मगर वक़्त के आगे हूँ मजबूर मैं I
नहीं हाथ मैं है कुछ मेरे,
जो भी है मेरे पास वो हूँ मैं ख़ुद I
लेकिन सिर्फ़ मुझसे नहीं चलेगा कुछ काम,
चाहिए और कुछ भी ज़िन्दगी के लिए I
        
मन तो करता है कुछ कर गुज़रने का,
        
मगर जब देखता हूँ मैं अतीत I
        
तो बस नहीं करता मन कुछ करने का,
 
पुरानी असफलता रोकती है कुछ नया करने को I
 
कि कहीं दुबारा  हो ऐसा,
        
वो तो वक़्त था मैं झेल गया 
        
मगर अब नहीं झेल पाऊँगा मैं,
        
क्योंकि बदल चुका है वक़्त,
        
और बदल गये है हालात I
तो फिर आख़िर करूँ क्या मैं,
क्या बैठा रहूँ यूँ ही रखे हाथ पर हाथ I
ऐसे आख़िर कब तक चलेगा,
कोई ऐसा वक़्त भी तो नहीं निश्चित I
        
तो फिर कैसे होगा कुछ,
        
कब तक रूकूगा ऐसे मैं I
कब तक करूँगा वक़्त का मैं इंतज़ार,
हद हो गई अब इंतज़ार की भी I
     
टूटने लगा है बाँध धैर्य का भी,
     
कयोिक है सर पर कई ज़िम्मेदारियाँ I
ऐसे हालात में तो नहीं कर पाऊँगा कुछ भी,
बदलना पड़ेगा मुझे हालात को
रोकना पड़ेगा इस इंतज़ार को I
         
वक़्त  गया है कुछ करने का
          
नहीं है वक़्त इंतज़ार करने का II


22 comments

  • Owssm bhai

    sanjay paswan
  • Good

    Anu
  • Bahut Khubb. Kya baat hai. Ye hunar toh mujhe pata na tha..

    Sanjay karan
  • Gajab…..

    Vikas
  • Nice

    Ankit
  • Mst bhai..

    Ckm
  • ना मैं कमज़ोर हूँ न डरने वाला, मगर वक़्त के आगे हूँ मजबूर मैं I

    वाह क्या बात है, दिल को छू लिया ।

    Raj Gurjar
  • wow great yar vry vry nice poem vai

    Ritesh raj
  • Very nice line bhai

    Kunjilal meena
  • दिल के जज़बात को बयां करना कोई आपसे सीखें….
    आपने बता दिया कि ऐसे हालात में हम क्या लिखें….
    जिस वक्त से आप गुजर रहे हो अनुज भाई…
    उस वक़्त का शिकार हुए हमारे हौसले पड़ गए फिकें…

    Bijeet Bhadani
  • nice poem bhai

    Parvez Alam
  • Good

    Anu
  • Nice poem

    Ram Choudhary
  • Good one.

    Mainak
  • very nice line bhai heart touching line

    Raja babu
  • Wah kya khoob likhte ho,,,bahut ache lagte ho??,,,Mast poem,,,,

    Subhash singh Yadav
  • Good

    Aman
  • Nice

    Ankit
  • Gajab

    Komal
  • Superb

    Anupam
  • Heart touching lines . Nice poems

    Anuj kumar
  • Good poem

    Mansi

Leave a comment