बहुत याद आते हैं वो दिन अब

By Riya Patel  

@riya_403 

वो भी एक ज़माना था 
जब गर्मियां मौसम नहीं, त्योहार थीं।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

सुबह स्कूल जाने की चिंता नहीं
देर तक तकिये को सीने से लगाकर सोना
वो मां का प्यार से सर पर हाथ फेर कर उठाना।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

वो  रंग-बिरंगे कपड़े पहनना
वो स्कूल यूनिफॉर्म से छुटकारा मिलना
वो अपनी मर्ज़ी से बाल कटवाना।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

दिन भर दोस्तों के साथ खेलना
दोपहर में हंगामा करना
शाम को घूमने जाने के लिए ज़िद करना
रोज़ रात को आइसक्रीम खाना।
बहुत याद आते हैं वो दिन।

वो छुपनछुपाई का खेल खेलना
खेल खेल में एक दूसरे से झगड़ना
झगड़ने के बाद एक दूसरे को मनाना।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

वो एक रुपए की पेप्सी
अलग-अलग रंग के बर्फ के गोले
वो ताजे रसीले आम का स्वाद।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

वो नानी के घर जाना
एक साल बाद सारे भाई बहनों से मिलना
मामा का हम सभी के लिए तोहफे लाना।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

छुट्टीयां खत्म होते ही अगली कक्षा में जाने की उत्सुकता
छुट्टीयों के बारे में दोस्तों को बताने की आतुरता
न‌ए साल के लिए न‌ई किताबें खरीदना
वो पापा का हमारे लिए न‌या स्कूल बैग लेकर के आना।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

अब तो ना ही वो दिन रहे
स्कूल से कालेज में चले गए
उन दोस्तों का भी साथ छूट गया
अब साथ रह ग‌ई हैं तो सिर्फ वो यादें।
बहुत याद आते हैं वो दिन अब।

-------------------------------------------------------------------------------------------
This poem won in Instagram Weekly Contest held by @delhipoetryslam on the theme 'Indian Summer' 

 


27 comments

  • I miss of before days

    Ajay gangwar
  • Beautiful expression

    Monica Narang
  • Nice and appreciable dude….. Your literature is too good💓💓

    PamPat_1906
  • Very nice … dimag se nai dil se likha he

    Harsh patel
  • Queen, you snapped!
    Yeptho here

    linoviyeptho
  • Very nice choice of words to take our minds back to the most carefree phase of our lives..
    Indeed a very good poem!!
    Keep writing….

    Saman Shaikh
  • Well done Riya..yaad diladi un dino ki..keep it up.❤️

    Amruta Birnawale
  • Wonderful. Keep it up buddy …

    Dharmin
  • nice work😍😍

    superb poem.. good job😍😍😍
  • Wow well written Riya bahut khubsurat

    Mohamed
  • Well done Riya 👍👌

    Saloni mandhare
  • Awesome Rhea. Really we all cherish those days. Thanks vo purani yadein tazza karane ke liye❤️❤️❤️

    Preksha Shetty
  • Nostalgia.😍

    Pallavi Ambade
  • Great work !!

    Nehaa kaira
  • Well done remember my childhood

    Jayesh patel
  • यादों और शब्दों का गुम्फन जिस भांति किया है, सराहनीय है।💕❤️

    Vatsal Sharma
  • Beautiful… really u r poem recalled those amazing days

    Kshiteeja
  • Wohh!! Awesome poetry!

    Keyur
  • Wohh!! Awesome poetry!

    Keyur
  • Fantastic poem!!

    Kiran
  • Well written….bachpan ki yaad aa gayee
    Neha

    Waaaaahh.... bohot acha likha hai....
  • Well written….bachpan ki yaad aa gayee

    Waaaaahh.... bohot acha likha hai....
  • Kya khoob yaad karaya h aapne un dino Ko…
    Mann kar Raha h un lamho Ko dobaara jeene Ko.
    Nice poem. Congratulations.keep it up!!

    Mighty
  • Beautifully written 😊😘🤗

    Pallavi Bansal
  • Literally missing those days!! Those summers, your words literally recall those memories!!👍

    Jeel Patel
  • Beautifully written
    Just mesmerized by as your poem totally recalled those days of summer for me

    Krisha
  • Khoob jiye hain aap woh din… ke aaj aapke alfaaz jee rahein hain.. unhe yaad kr kr…

    Dictator...

Leave a comment